NCERT Solutions for Class 6 Hindi Vasant Chapter 9

NCERT Solutions for Class 6 Hindi Vasant Chapter 9 – टिकट-अलबम (Ticket Album) – सुंदरा रामस्वामी

कहानी से

1. नागराजन ने अलबम के मुख्य प्रष्ठ पर क्या लिखा और क्यों? इसका असर कक्षा के दूसरे लड़के-लड़कियों पर क्या हुआ?

उत्तर:- नागराजन के एल्बम के पहले पृष्ठ पर मोती जैसे अक्षरों में उसके मामा ने लिख भेजा था-

ए. एम. नागराजन

‘इस अलबम को चुराने वाला बेशर्म है। ऊपर लिखे नाम को कभी देखा है? यह अलबम मेरा है। जब तक घास हरी है और कमल लाल, सूरज जब तक पूर्व से उगे और पश्चिम में छिपे, उस अनंत काल तक के लिए यह अलबम मेरा है, रहेगा।’

नागराजन ने अपने अलबम को चोरी होने से बचाने के लिए उसमें ऐसा लिख रखा था। कक्षा के सभी लड़कों ने इन पंक्तियों को अपने-अपने अलबम में उतार लिया था और लड़कियों ने भी अपनी कॉपियों और किताबों में टीप था।

2. नागराजन के अलबम के हिट हो जाने के बाद राजप्पा के मन की क्या दशा हुई?

उत्तर:- नागराजन के अलबम के हिट हो जाने के बाद राजप्पा मन ही मन उड़ रहा था। अब उसे स्कूल जाना अच्छा नहीं लगता था और अब उसे बाकी लड़कों के सामने जाने में शर्म आने लगी थी। उसे अपने ही अलबम से चिढ़ होने लगी थी।




3. अलबम चुराते समय राजप्पा किस मानसिक स्थिति से गुज़र रहा था?

उत्तर:- अलबम चुराते समय राजप्पा बहुत ज़्यादा डरा हुआ था। अलबम के पहले पृष्ठ पर लिखे वाक्यों को पढ़ने पर उसका दिल तेजी से धड़कने लगा, उसका पूरा शरीर जैसे जलने लगा था, गला सूख रहा था और चेहरा तमतमाने लगा था। पकड़े जाने के डर से वह बहुत अधिक घबराया हुआ था।

4. राजप्पा ने नागराजन का टिकट अलबम अंगीठी में क्यों डाल दिया?

उत्तर:- नागराजन के मित्र अपू ने राजप्पा को बताया था कि नागराजन के पिताजी डी.एस.पी. के दफ़्तर में ही काम करते हैं और उनके एक बार कहने पर पुलिस की फ़ौज हाज़िर हो सकती है। इसलिए जब राजप्पा के घर का दरवाजा खटखटाया तो उसे लगा कि पुलिस आ गई है। पुलिस के डर से और अपनी चोरी पकड़े जाने के डर से राजप्पा ने नागराजन का टिकट-अलबम अंगीठी में डाल दिया।

5. लेखक ने राजप्पा के टिकट इकट्ठा करने की तुलना मधुमक्खी से क्यों की?

उत्तर:- लेखक ने राजप्पा के टिकट इकट्ठा करने की तुलना मधुमक्खी से की है क्योंकि जिस प्रकार मधुमक्खी दिनभर मेहनत करके सैकड़ों फूलों से रस इकट्ठा करती है और शहद बनाती है; उसी प्रकार राजप्पा ने भी बहुत सारे लड़कों से खरीदकर टिकट जमा किए थे और अपना टिकट-अलबम बनाया था।

NCERT Solutions for Class 6 Hindi Vasant Chapter 9 – कहानी से आगे

1. टिकटों की तरह ही बच्चे और बड़े दूसरी चीज़ें भी जमा करते हैं। सिक्के उनमें से एक हैं। तुम कुछ अन्य चीज़ों के बारे में सोचो जिन्हें जमा किया जा सकता है। उनके नाम लिखो।

उत्तर:- टिकटों की तरह निम्नलिखित चीज़ों को भी जमा किया जा सकता है-

  • पुराने सिक्के
  • विभिन्न देशों की मुद्राएं
  • डाक टिकट
  • शंख
  • सीपें, आदि।




2. टिकट-अलबम का शौक रखने के राजप्पा और नागराजन के तरीके में क्या फ़र्क है? तुम अपने शौक के लिए कौन-सा तरीका अपनाओगे।

उत्तर:- राजप्पा और नागराजन, दोनों को ही टिकट-अलबम रखने का शौक था, लेकिन दोनों के शौक पूरा करने के तरीक़े में बहुत फर्क था। जहां नागराजन को उसके मामा ने बना-बनाया अलबम भेज दिया था, वहीं राजप्पा ने मधुमक्खी की तरह एक-एक करके टिकट जमा किए थे। उसने अपना टिकट अलबम बनाने के लिए दिन रात मेहनत की थी।

मैं अपना शौक पूरा करने के लिए राजप्पा का तरीका अपनाऊंगी क्योंकि अपने सपनों को पूरा करने का असली सुख और गौरव तभी महसूस होता है, जब हमने उनके लिए कठोर परिश्रम किया हो।

3. इकट्ठा किए हुए टिकटों का अलग-अलग तरह से वर्गीकरण किया जा सकता है, जैसे- देश के आधार पर। ऐसे और आधार सोचकर लिखो।

उत्तर:- इकट्ठा किए हुए टिकटों का निम्नलिखित तरह से वर्गीकरण किया जा सकता है-

  • देश के आधार पर
  • आकार के आधार पर
  • मुल्य के आधार पर
  • रंग के आधार पर

4. कई लोग चीजें इकट्ठी करते हैं और ‘गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड’ में अपना नाम दर्ज करवाते हैं। इसके पीछे उनकी क्या प्रेरणा होती होगी? सोचो और अपने दोस्तों से इस पर बातचीत करो।

उत्तर:- कई लोग चीजें इकट्ठी करते हैं और ‘गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड’ में अपना नाम दर्ज करवाते हैं। इसके पीछे उनकी प्रेरणा कुछ अलग कर दिखाना या किसी एक चीज़ में प्रवीणता हासिल कर लेना हो सकता है।

NCERT Solutions for Class 6 Hindi Vasant Chapter 9 – अनुमान और कल्पना

1. राजप्पा अलबम के जलाए जाने की बात नागराजन को क्यों नहीं कह पाता है? अगर वह कह देता तो क्या कहानी के अंत पर कुछ फर्क पड़ता? कैसे?

उत्तर:- राजप्पा अलबम के जलाए जाने की बात नागराजन को नहीं कह पाता है क्योंकि उसे डर था कि यह बात सुनकर नागराजन उससे नाराज हो जाएगा और सबको यह बात बता देगा, जिससे सभी लोग राजप्पा से नफ़रत करने लग जाएंगे।

अगर राजप्पा नागराजन को सच बता देता तो हो सकता था कि नागराजन उसे माफ कर देता या उससे गुस्सा होकर सभी लोगों को उसकी चोरी के बारे में बता देता और सभी लोग उसे चोर कहने लग जाते।

2. कक्षा के बाकी विद्यार्थी स्वयं अलबम क्यों नहीं बनाते थे? वे राजप्पा और नागराजन के अलबम के दर्शक-मात्र क्यों रह जाते हैं? अपने शिक्षक को बताओ।

उत्तर:- कक्षा के बाकी विद्यार्थी स्वयं अलबम नहीं बनाते थे क्योंकि टिकट-अलबम बनाना उनका शौक नहीं था, वे सभी किसी अन्य चीज़ का शौक रखते थे या उनमें टिकट-अलबम को लेकर नागराजन और राजप्पा जितना उत्साह, जुनून और लग्न नहीं था। इसीलिए वे राजप्पा और नागराजन के अलबम के दर्शक-मात्र रह जाते हैं।




NCERT Solutions for Class 6 Hindi Vasant Chapter 9 – भाषा की बात

1. निम्नलिखित शब्दों को कहानी में ढूंढ कर उनका अर्थ समझो अब स्वयं सोचकर इन से वाक्य बनाओ-

खोंसना, जमघट, टटोलना, कूढ़ना, ठहाका, अगुआ, पुचकारना, खलना, हेकड़ी, तारीफ।

उत्तर:-

  • कामवाली बाई ने नज़र बचाकर थोड़ी-सी चाय-चीनी अपनी साड़ी में खोंस ली।
  • मेले में लोगों का जमघट लगा हुआ है।
  • पैसे मांगने पर राम अपनी जेब टटोलने लगा।
  • सरिता कक्षा सुंदर होने के साथ-साथ प्रतिभाशाली भी है, इसलिए सभी लड़कियां उससे कुढ़ती हैं।
  • डोलू की नटखट बातें सुनकर मां ठहाका मारकर हंसने लगी।
  • सरना धर्म के अगुआ वीरेंद्र भगत ने कहा कि आदिवासियों को विभिन्न धर्मों में बांट दिया गया है।
  • रोते हुए बच्चे को चुप करवाने के लिए मां उसे पुचकारने लगी।
  • नितेश का बेगैरतपन धीरे-धीरे सभी लोगों को खलने लगा।
  • उसके पिताजी सरकारी अफ़सर हैं, इसलिए वह हर जगह हेकड़ी दिखाता फिरता है।
  • आजकल मोहल्ले के सभी लोग नितेश के प्रतिभाशाली पुत्र की तारीफ़ कर रहा है।

2. कहानी से व्यक्तियों या वस्तुओं के लिए प्रयुक्त हुए ‘नहीं’ का अर्थ देने वाले शब्दों (नकारात्मक विशेषण) को छांटकर लिखो। उनका उल्टा अर्थ देने वाले शब्द भी लिखो।

उत्तर:- प्रस्तुत पाठ में प्रयुक्त हुए नकारात्मक विशेषण-

  • घमंडी
  • फिसड्डी
  • चोर
  • ईर्ष्यालु
  • फ़ालतू
  • उल्लू

उपरोक्त नकारात्मक शब्दों के विपरीत अर्थ वाले शब्द-

  • घमंडी – विनम्र
  • फिसड्डी – होशियार
  • चोर – ईमानदार
  • ईर्ष्यालु – परोपकारी
  • फ़ालतू – उपयोगी
  • उल्लू – बुद्धिमान
Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on email

Leave a Comment