काल और काल के भेद

Kaal or Kaal ke bhed – भूतकाल, वर्तमानकाल, भविष्यत् काल

जिस रूप से क्रिया के होने के समय का बोध हो, उसे काल कहते हैं।
आज मेरे जन्मदिन पर दीदी मेरे लिए घड़ी खरीद रही हैं।
अगले साल मेरे जन्मदिन पर मेरे पापा कहीं बाहर ले जाएँ।
इस प्रकार से हम देखते हैं कि उपर्युक्त वाक्यों में क्रियाएँ अलग-अलग समय में हो रही हैं। तो इस प्रकार से ‘क्रिया के समय दर्शाने को’ ही ‘काल’ कहते हैं।

काल के भेद ( Kaal ke bhed )

  1. भूतकाल ( Bhootkaal )
  2. वर्तमान काल (Vartaman Kaal)
  3. भविष्यतकाल (Bhavishyat Kaal)

Kaal or Kaal ke bhed – Video Explanation

भूतकाल

भूतकाल

अर्थात् जो समय बीत गया।
क्रिया के जिस रूप से बीते हुए समय का बोध हो या वाक्य में प्रयुक्त क्रिया के जिस रूप से बीते समय में (भूत) क्रिया का होना पाया जाता है। उसे हम भूतकाल कहते है।

वर्तमान काल

क्रिया के जिस रूप से वर्तमान समय में क्रिया का होना पाया जाये, अथवा क्रिया के जिस रूप से चल रहे समय का बोध हो, उसे वर्तमानकाल कहते हैं।

जैसे →

  1. मैं समय-सारणी देखकर काॅपी-किताबें बस्ते में रख रहा हूँ।
  2. मेरे पापा कंप्यूटर पर काम कर रहे है।

इस प्रकार से हम देखते हैं कि उपर्युक्त वाक्यों में क्रियाएँ अभी चल रही हैं। इन वर्तमान काल का बोध हो रहा ह, अतः ये वर्तमानकाल है।

भविष्यत् काल

क्रिया के जिस रूप से आने वाले समय का बोध हो, उसे भविष्यत्काल कहते है।

जैसे →

  1.  मेरे पापा का स्थानांतरण अब दिल्ली हो जाएगा।
  2. मैं नए विद्यालय में प्रवेश लूँगा।
  3. वहाँ पर भी अच्छे आचरण वाले नए-नए दोस्त बनाऊँगा।

इस प्रकार से हम देखते हैं कि उपर्युक्त वाक्यों में क्रियाएँ आने वाले समय का बोध करा रही हैं। अतः ये भविष्यत् काल है।

Learn More

Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on email

1 thought on “काल और काल के भेद”

Leave a Comment