NCERT Solutions for Class 10 Hindi Kshitij Chapter 13 – सर्वेश्वर दयाल सक्सेना

NCERT Solutions for Class 10 Hindi Kshitij Chapter 13 – सर्वेश्वर दयाल सक्सेना (Sarveshwar Dayal Saxena) – मानवीय करुणा की दिव्य चमक (Manviya karuna ki divya chamak)

गद्य खंड

प्रश्नअभ्यास

1. फादर की उपस्थिति देवदार की छाया जैसी क्यों लगती थी?

उत्तर- जिस तरह देवदार का वृक्ष अपने समीप आए प्राणीयों को छाया एवं शीतलता प्रदान करता है, ठीक उसी प्रकार फादर भी अपनी शरण मे आए लोगो की बात सुनते व उनको सही मार्ग दिखाते।




2. फादर बुल्के भारतीय संस्कृति के एक अभिन्न अंग है, किस आधार पर ऐसा कहा गया है?

उत्तर-  फादर ‘बेल्जियम’ से भारत आकर बस गए। वह यहाँ की ही संस्कृति मे आकर मिल गए। उनका भारत व हिन्दी दोनो से बहुत प्रेम था । वह हिन्दी को राष्ट्रभाषा बनते देखना चाहते थे व उन्होने इस क्षेत्र मे कई तरीको से काम भी किया। फादर बुल्के ने ‘बाइबिल’ और ‘ब्लू- बर्ड’ का हिन्दी अनुवाद भी किया। फादर भले ही विदेश से आए मगर भारत के अभिन्न अंग बनकर रहे।

3. पाठ मे आए उन प्रसंगों का उल्लेख कीजए जिनसे फादर का हिंदी प्रेम प्रकट होता है?

उत्तर- फादर इलाहाबाद मे एक “परिमल” नामक साहित्यिक संस्था के साथ जुड़े रहे। उन्होने बाइबिल तथा ब्लू-वर्ड का हिन्दी अनुवाद किया। फादर बुल्के राँची के सेंट जेवियर्स कॉलेज मे हिन्दी व संस्कृत विभाग के विभागाध्यक्ष रहे। उन्हे हिन्दी को मातृभाषा बनाने की बड़ी चिन्ता थी तथा उन्होने इस चिन्ता को कई मंचो पर साझा भी किया।

4. इस पाठ के आधार पर जो फ़ादर की छवि उभरी है उसे अपने शब्दो मे लिखिए।

उत्तर- फादर बुल्के चुम्बकीय आकर्षण से युक्त संन्यासी थे। वे हर किसी के प्रति सदभावना रखते थे। उनके व्याक्तित्व मे मानवीय करूणा की दिव्य चमक थी। वे हिन्दी व साहित्य के अन्यय प्रेमी थे व उन्होंने हिन्दी को राष्टूभाषा बनवाने के लिए भी अनेक प्रयत्न करे। वे प्रतिभाओं के धनी पुरूष थे।

5. लेखक ने फादर को ’मानवीय करुणा की दिव्य चमक’ क्यो कहा है?

उत्तर- फादर को ‘मानवीय करूणा की दिव्य चमक’ इसलिए कहा गया क्योंकि मानव मात्र के लिए उनके दिल मे असीम प्रेम व करूणा थी। वह किसी मे भी कोई भेदभाव नहीं करते थे वह सबको समान रुप पर रखकर देखते थे।

6. फादर ने संन्यासी की परंपरागत छवि से अलग एक नयी छवि प्रस्तुत की है, कैसे?

उत्तर- मूल रूप से संन्यासी मोह माया से दूर अपना जीवन जीते परंतु फादर बुल्के ने सब के बीच रहकर व उनके सुख दुख मे साथ देकर संन्यासी की एक अलग ही छवि प्रस्तुत की है।

7. आशय स्पष्ट कीजिए-

(क) नम आँखो को गिनना स्याही फैलाना है।
(ख) फ़ादर को याद करना एक 3दास शांत संगीत सुनने जैसा है।

उत्तर- (क) फादर बुल्के की मृत्यु पर लोगो की भीड़ लग गई तथा ३न नम ऑखो को गिनना स्याही फैलाने जैसा था अर्थात् फादर बुल्के की मौत पर रोने वाले बहुत थे।

(ख) जिस प्रकार शांत संगीत सुनने पर हमारा मन गम व दुख मे विलीन हो जाता है ठीक उसी प्रकार फादर बुल्के को याद करने पर भी मन एकदम अशांत व निराश हो जाता है।




NCERT Solutions for Class 10 Hindi Kshitij Chapter 13 – रचना और अभिव्यक्ति

1. आपके विचार से बुल्के ने भारत आने का विचार क्यों बनाया होगा?

उत्तर- हमारे विचार से फादर भारत की प्राचीन संस्कृति व यहाँ की सभ्यता से प्रसन्न होकर, यहाँ आने का विचार बनाया होगा।

NCERT Solutions for Class 10 Hindi Kshitij Chapter 13 – भाषाअध्ययन

1. वाक्यों मे समुच्यबोधक छाँटकर अलग लिखिए।

(क) तब भी जब वह इलाहाबाद में थे और तब भी जब वह दिल्ली आते थे।
(ख) मॉ ने बचपन मे ही घोषित कर दिया था कि लड़का हाथ से गया।
(ग)
वे रिश्ता बनाते थे तो तोड़ते नहीं थे।

उत्तर- (क) और
(ख) कि
(ग) तो

NCERT Solutions For Class 10 – Click here

Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on email

Leave a Comment