NCERT Solutions for Class 10 Hindi Kshitij Chapter 12 – यशपाल

NCERT Solutions for Class 10 Hindi Kshitij Chapter 12 – यशपाल (Yashpal) – लखनवी अंदाज (Lakhnawi Andaz)

गद्य खंड

प्रश्न-अभ्यास

1. लेखक को नवाब साहब के किन हाव-भावो से लगा कि वे उनसे बातचीत करने के लिए तनिक भी उत्सुक नहीं है?

उत्तर- लेखक के ट्रेन मे आते ही नवाब साहब के मुँह पर उदासीनता के भावो से यह साफ हो गया था कि वह लेखक से बातचीत करने के लिए तनिक भी उत्सुक नहीं है।




2. नवाब साहब ने बहुत ही यत्न से खीरा काटा, नमक-मिर्च बुरका, अंततः सूँघकर ही खिड़की से बाहर फेंक दिया। उन्होने ऐसा क्यो किया होगा? उनका ऐसा करना उनके कैसे स्वभाव को इंगित करता है?

उत्तर- उनका ऐसा बर्ताव खुद को खास दिखाने व लेखक के समक्ष अपनी अमीरी प्रकट करने के लिए होगा। उनका ऐसा करना उनके स्वभाव के  खोखलेपन को दर्शाता है।

3. बिना विचार, घटना और पात्रों के भी क्या कहानी लिखी जा सकती है। यशपाल के इस विचार से आप कहाँ तक सहमत है?

उत्तर- इस कथन द्वारा लेखक ने नए दौर के लेखको पर व्यंग्य कसा है।
बिना आवश्यक मूल तत्वो के कोई भी चीज़ असंभव है ठीक उसी तरह बिना विचार,घटना व पात्रो के भी कहानी लिखी जानी मुश्किल है।

4. आप इस निबंध को और क्या नाम देना चाहेंगे ?

उत्तर- बनावटी जीवन।

NCERT Solutions for Class 10 Hindi Kshitij Chapter 12 – रचना और अभिव्यक्ति

5. खीरे के संबंध मे नवाब साहब के व्यवहार को उनकी सनक कहा जा सकता है। आपने नवाबों की औ२ भी सनको और शौक के बारे मे पढ़ा या सुना होगा। किसी एक के बारे मे लिखिए।

उत्तर- पुराने काल मे नवाबों को शौक होता था जंगली जानवरो को मारकर उनकी खाल का घर मे सजाना। जो सोचने व सुनने दोनो मे अजीब है।

NCERT Solutions for Class 10 Hindi Kshitij Chapter 12 – भाषा-अध्ययन

निम्नलिखित वाक्यों में से क्रियापद छाँटकर क्रिया-भेद लिखिए।

(क) एक सफ़ेदपोश सज्जन बहुत सुविधा से पालथी मारे बैठे थे।
(ख) नवाब साहब ने संगति के लिए उत्साह नहीं दिखाया।
(ग) खाली बैठे, कल्पना करते रहने की पुरानी आदत है।
(घ)अकेले सफ़र का वक्त काटने को ही खीरे खरीदे होगें।

उत्तर- (क)बैठे थे- अकर्मक क्रिया।
(ख)दिखाया- सकर्मक क्रिया।
(ग)आदत है- सकर्मक क्रिया।
(घ)खरीदे होगें- सकर्मक क्रिया।

NCERT Solutions For Class 10 – Click here

Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on email

Leave a Comment