Vakya Rachna in Hindi

Vakya Rachna in Hindi or Vakya ke bhed – वाक्य (Vakya), वाक्य के अंग (Vakya ke ang), वाक्य के भेद ( Vakya ke bhed ) – अर्थ के आधार पर ( Arth ke aadhar par vakya ke bhed ), रचना के आधार पर ( Rachna ke aadhar par vakya ke bhed )

शब्दों के व्यवस्थित तथा सार्थक समूह को वाक्य कहते हैं |

जैसे →  (1)  पौधा खिला फूल में है एक |
पौधों में एक फूल खिला है |

(2)  घर सुंदर है बहुत हमारा |
हमारा घर बहुत सुंदर है |

वाक्य के अंग ( Vakya ke Ang )

(1)  उद्देश्य
(2)  विधेय

(1)  उद्देश्य →

जैसे →  वैशाली कपड़े धो रही थी |
दमयंती ने खाना बनाया |

→   वाक्य में जिसके विषय में बताया जाता है, उसे उद्देश्य कहते हैं |
→   उद्देश्य के अंतर्गत कर्ता तथा कर्ता का विस्तार आता है |

(2)  विधेय →

जैसे →  रोहन झगड़ रहा था |
राधा सितार बजा रही है |

वाक्य के भेद ( Vakya ke bhed )

(1)  अर्थ के आधार पर ( Arth ke aadhar par vakya ke bhed )
(2)  रचना के आधार पर ( Rachna ke aadhar par vakya ke bhed )

अर्थ के आधार पर वाक्य के भेद ( Arth ke aadhar par vakya ke bhed )

  1. विधानवाचक वाक्य
  2. निषेधवाचक वाक्य
  3. विस्मयवाचक वाक्य
  4. संदेहवाचक वाक्य
  5. आज्ञावाचक वाक्य
  6. संकेतवाचक वाक्य
  7. इच्छावाचक वाक्य
  8. प्रश्नवाचक वाक्य
https://youtu.be/SDKJFBNZ3MY

विधानवाचक वाक्य

→   जिस वाक्य में किसी बात या कार्य के होने या करने का सामान्य कथन हो, उसे विधानवाचक वाक्य कहते है |

जैसे →  वेदांत विद्यालय जा रहा है |
   बलवीर ने भाषण दिया |

निषेधवाचक वाक्य

जिस वाक्य में क्रिया के करने या होने का निषेध हो, उसे निषेधवाचक वाक्य कहते हैं |

जैसे →  मैं बाजार नहीं जाऊँगा |
→   मोहन घूमने नहीं जा रहा |

आज्ञावाचक वाक्य

जिस वाक्य से आज्ञा, अनुमति, विनय या अनुरोध का बोध हो, उसे आज्ञावाचक वाक्य कहते हैं |

जैसे →  कृपया हस्ताक्षर कर दीजिए |
तुम अंदर जाकर पढ़ाई करो |

प्रश्नवाचक वाक्य

जिन वाक्यों द्वारा प्रश्न करने का भाव प्रकट होता है, उन्हें प्रश्नवाचक वाक्य कहते हैं |

जैसे →  राहुल को किसने डाँट दिया ?
आपको किससे मिलना है ?

इच्छावाचक वाक्य

जिस वाक्यों से इच्छा, आशीर्वाद, कामना, शुभकामना आदि का भाव प्रकट होता है, उसे इच्छावाचक वाक्य कहते हैं |

जैसे →  (1)  आपकी यात्रा मंगलमय हो |
(2)  ईश्वर तुम्हें लंबी आयु दे |

संदेहवाचक वाक्य

ऐसे वाक्य जिनसे कार्य के होने या न होने के प्रति संदेह या संभावना प्रकट होती है, उन्हें संदेहवाचक वाक्य  कहते हैं |

जैसे →  (1)  शायद कल वर्षा हो जाए |
(2)  लगता है आज बारिश होगी |

संकेतवाचक वाक्य

जिस वाक्य में एक क्रिया का होना दूसरी क्रिया के होने पर निर्भर करता हो, उसे संकेतवाचक वाक्य कहते हैं |

जैसे →  (1)  पानी न बरसता, तो धान सूख जाता |
(2)  यदि पेड़ लगाएँगे, तो वायु शुद्ध होगी |

विस्मयवाचक वाक्य

जिस वाक्य से हर्ष, शोक, आश्चर्य, घृणा, आदि भावों का बोध होता है, उसे विस्मयवाचक वाक्य कहते हैं |

जैसे →  (1)  बाप रे ! इतना मोटा चूहा |
(2)  वाह ! कितनी सुंदर फुलवारी है |

रचना के आधार पर वाक्य के भेद ( Rachna ke aadhar par Vakya ke bhed )

  1. सरल वाक्य
  2. संयुक्त वाक्य
  3. मिश्रित वाक्य

सरल वाक्य 

→   जिस वाक्य में एक ही उद्देश्य तथा एक ही विधेय होता है, उसे सरल वाक्य कहते हैं |

जैसे → राम ने रावण को मारा
उद्देश्य = राम ने
विधेय  = रावण को मारा |

→   अमित खाना खा रहा है |
उद्देश्य = अमित
विधेय = खाना खा रहा है |

संयुक्त वाक्य

जिस वाक्य में दो-या-दो से अधिक स्वतंत्र उपवाक्य योजक या समुच्चयबोधक अव्यय द्वारा जुड़े हों, उसे संयुक्त वाक्य कहते हैं |

उदाहरण
(1)  हमने फिल्म का टिकट खरीदा और सिनेमा हॉल चले गए |
(2) पिताजी बाजार गए और हमारे लिए मिठाई लाए |

मिश्रित वाक्य 

जिस वाक्य में एक से अधिक सरल वाक्य इस प्रकार जुड़े हो कि उनमें एक प्रधान उपवाक्य तथा अन्य आश्रित उपवाक्य हों | उसे मिश्रित वाक्य कहते हैं |

जैसे →  वेदांत ने कहाँ कि मैं गाँव नहीं जाऊँगा |
प्रधान उपवाक्य = वेदांत ने कहाँ
आश्रित उपवाक्य = कि मैं गाँव नहीं जाऊँगा |

(2)  वे सफल होते हैं जो परिश्रम करते है |
प्रधान उपवाक्य = वे सफल होते हैं
आश्रित उपवाक्य = जो परिश्रम करते है |

रचना के आधार पर वाक्यों में परिवर्तन

(क)  सरल वाक्य से संयुक्त वाक्य

सरल वाक्य
चाय या कॉफी में से कोई पी लेंगे |
माँ ने गोलू को डाँटकर सुलाया |

संयुक्त वाक्य
चाय पी लेंगे या कॉफी पी लेंगे
माँ ने गोलू को डाँटा और सुला दिया |

(ख)  सरल वाक्य से मिश्र वाक्य

सरल वाक्य
लापरवाह मजदूर छत से गिर गया |
ईमानदार व्यक्ति का सभी आदर करते हैं |

मिश्र वाक्य
जो मज़दूर लापरवाह था, वह छत से गिर गया |
जो व्यक्ति ईमानदार होता है, सभी उसका आदर करते हैं |

(ग)  संयुक्त वाक्य से सरल वाक्य

संयुक्त वाक्य
शालू आई और पढ़ने लगी |
घबराओ मत और कविता सुनाओ |

सरल वाक्य
शालू आकर पढ़ने लगी |
बिना घबराए कविता सुनाओ |

(घ)  संयुक्त वाक्य से मिश्र वाक्य

संयुक्त वाक्य
घंटी बज गई और बच्चे कक्षा में जाने लगे |
राधा आई तो रेखा चली गई |

मिश्र वाक्य
जब घंटी बज तो बच्चे कक्षा में जाने लगे |
जब राधा आई तब रेखा चली गई |

(ङ)  सरल वाक्य से संयुक्त वाक्य तथा मिश्र वाक्य

(1)  कक्षा में अध्यापक आते ही सभी शांत हो गए | (सरल वाक्य)
कक्षा में अध्यापक आया और सभी शांत हो गए | (संयुक्त वाक्य)
जैसे ही कक्षा में अध्यापक आया वैसे ही सब शांत हो गए| (मिश्र वाक्य)

(2)  माँ के आते ही दोनों बच्चे उनसे लिपट गए | (सरल वाक्य)
माँ आई और दोनों बच्चे उनसे लिपट गए | (संयुक्त वाक्य)
ज्यों ही माँ आई दोनों बच्चे उनसे लिपट गए | (मिश्र वाक्य)

FAQs on Vakya Rachna in Hindi

प्र.1. वाक्य के कितने अंग होते है ?     
उत्तर = दो अंग होते है |

प्र.2.  उद्.देश्य किसे कहते है ?    
उत्तर = वाक्य में जिसके बारे में कुछ कहा जाता है, उसे सूचित करने वाले शब्द को उद्.देश्य कहते हैं |

प्र.3.  छोटा बच्चा फ़ुटबॉल से खेल रहा है | उक्त वाक्य में से विधेय बताइए –               
उत्तर = फ़ुटबॉल से खेल रहा है |

प्र.4.  ‘माँ बाजार जा रही है |’ उक्त वाक्य में से उद्.देश्य बताइए –        
उत्तर = माँ

प्र.5.  अर्थ के आधार पर वाक्य के कितने भेद होते है ?
उत्तर = आठ भेद होते है |

प्र.6. रचना के आधार पर वाक्य के कितने भेद होते है ?
उत्तर = तीन भेद

प्र.7.  जैसे ही घंटी बजी बच्चे कक्षा से बाहर आ गए | रचना के आधार पर उक्त  वाक्य का भेद बताइए –
उत्तर = मिश्रित वाक्य

प्र.8.  छि: ! कितनी गंदगी है | अर्थ के आधार पर वाक्य का भेद बताइए –          
उत्तर = विस्मयादिवाचक

CBSE Hindi Vyakaran Class 8 Notes

Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on email

4 thoughts on “Vakya Rachna in Hindi”

Leave a Comment