Pratyay | Hindi Grammar Class 8

प्रत्यय ( Pratyay )  वे शब्दांश जो किसी शब्द या धातु के पीछे लगकर नया शब्द बना देते हैं वे प्रत्यय कहलाते हैं |

जैसे →
दूध = दूध + वाला = दूधवाला
पान = पान + वाला = पानवाला




प्रत्यय के प्रकार

(1)  कृत प्रत्यय ( Kritya Pratyay )
(2)  तद्धित प्रत्यय ( Tadhit Pratyay )

कृत प्रत्यय (Kritya Pratyay )

जो शब्दांश क्रिया धातु के अंत में लगकर नए शब्द की रचना करते हैं, उन्हें कृत प्रत्यय कहते हैं |
→   कृत प्रत्यय से बनने वाले शब्दों को कृदंत (कृत + अंत) कहते हैं |

जैसे
लिख + आवट = लिखावट
पालन + हार = पालनहार

तद्धित प्रत्यय (Tadhit Pratyay)

जो प्रत्यय संज्ञा, सर्वनाम या विशेषण के अंत में जुड़कर नए शब्द का निर्माण करते हैं, उन्हें तद्धित प्रत्यय कहते हैं |
→   तद्धित प्रत्यय से बनने वाले शब्दों को तद्धितांत शब्द कहते हैं |

जैसे
मनुष्य + त्व = मनुष्यत्व
चिकना + आहट = चिकनाहट




कृत प्रत्यय के भेद ( Kritya Pratyay ke bhed )

(1)  कृतवाचक कृदंत प्रत्यय
(2)  कर्मवाचक कृदंत प्रत्यय
(3)  करणवाचक कृदंत प्रत्यय
(4)  भाववाचक कृदंत प्रत्यय
(5)  क्रियावाचक कृदंत प्रत्यय

(1)  कृतवाचक कृदंत प्रत्यय

जैसे
चल + अक = चालक
लड़ + आकू = लड़ाकू
भूल + अक्कड़ = भुलक्कड़

(2)  कर्मवाचक कृदंत प्रत्यय

ओढ़ + ना = ओढ़ना
बिछा + औना = बिछौना
चल + नी = चलनी

(3) करणवाचक कृदंत प्रत्यय

जैसे
बेल + अन = बेलन
झूल + = झूला
लेख + नी = लेखनी

(4)  भाववाचक कृदंत प्रत्यय

जैसे
थक + आवट = थकावट
पूज् + आपा = पुजापा
लड़ + आई = लड़ाई





(5)  क्रियावाचक कृदंत प्रत्यय

जैसे
खेल + ना = खेलना
बोल + ता = बोलता
खा + कर = खाकर

तद्धित प्रत्यय के भेद ( Tadhit Pratyay ke bhed )

  1. कर्तृवाचक तद्धित
  2. भाववाचक तद्धित
  3. ऊनवाचक तद्धित
  4. संबंधवाचक तद्धित
  5. विशेषणवाचक तद्धित

1. कर्तृवाचक तद्धित प्रत्यय

जैसे →
लोहा + आर = लुहार
पत्र + कार = पत्रकार
लकड़ी + हारा = लकड़हारा

2. भाववाचक तद्धित प्रत्यय

बूढ़ा + आपा = बुढ़ापा
गरम + = गरमी
चतुर + आई = चतुराई

3. ऊनवाचक तद्धित प्रत्यय

थाल + = थाली
डिब्बा + इया = डिबिया
साँप + ओला = सँपोला

4. संबंधवाचक तद्धित प्रत्यय

जैसे
चाचा + एरा = चचेरा
ससुर + आल = ससुराल
बहन + ओई = बहनोई

5. विशेषणवाचक तद्धित प्रत्यय

जैसे
लोभ + = लोभी
रस + ईला = रसीला
बुद्धि + मान = बुद्धिमान





दो प्रत्ययों का एक साथ प्रयोग →

भारतीयता = भारत + ईय + ता = भारतीयता
बनावटी = बन + आवट + ई = बनावटी
प्रांतीयता = प्रांत + ईय + ता = प्रांतीयता

उपसर्ग और प्रत्यय का एक साथ प्रयोग

अभिमानी → अभि + मान + ई = अभिमानी
सफलता → स + फल + ता = सफलता

Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on email

Leave a Comment