Shudh Vartani in Hindi Grammar

Shudh Vartani in Hindi Grammar

शुद्ध वर्तनी ( Shudh Vartani in Hindi)

(1) अनावश्यक स्वर प्रयुक्त हो जाने कारण

अशुद्ध वर्तनी – शुद्ध वर्तनी
द्वारिका – द्वारका
वापिस – वापस
अभ्यार्थी – अभ्यर्थी
आधीन – अधीन

(2)  मात्रा प्रयोग→

अशुद्ध – शुद्ध
गोरव – गौरव
तियालीय – तैंतालीस
गितांजली – गीतांजली
उर्जा – ऊर्जा
पुरूस्कार – पुरस्कार

(3)  स्वर या व्यंजन का लोप हो जाने पर

(1)  स्वर का लोप →

अशुद्ध – शुद्ध
आजीवका – आजिविका
जमाता – जामाता
स्वस्थ्य – स्वास्थ्य

(2) व्यंजन का लोप

अशुद्ध – शुद्ध
अनुछेद – अनुच्छेद
स्वालंबन – स्वावलंबन
उपलक्ष – उपलक्ष्य
धातव्य – ध्यातव्य 

वर्ण व्यतिक्रम

अशुद्ध – शुद्ध
अथिति – अतिथि
प्रसंशा – प्रशंसा
मतबल – मतलब
अलम – अमल

वर्ण परिवर्तन

अशुद्ध – शुद्ध
बतक – बतख
दस्तकत – दस्तखत
जुखाम – जुकाम
खंबा – खंभा
कनिष्ट – कनिष्ठ
रामायन – रामायण

पंचम वर्ण / अनुस्वार / अनुनासिकता (चंद्र बिंदु) का प्रयोग-

अशुद्ध – शुद्ध
हंसमुख – हँसमुख
अँधा – अंधा
अँकुर – अंकुर
दांत – दाँत
कांप – काँप

रेफ व ‘र’ के अशुद्ध प्रयोग

अशुद्ध – शुद्ध
दशर्न – दर्शन
अथार्त – अर्थात
पुर्नजन्म – पुनर्जन्म
आर्शीवाद – आशीर्वाद

‘र’ के स्थान पर ‘ऋ’ के प्रयोग के कारण

अशुद्ध – शुद्ध
बृज – ब्रज
बृटिश – ब्रिटिश

संधि संबंधि-

अशुद्ध – शुद्ध
कविद्र – कवींद्र
गत्यावरोध – गत्थवरोध
अभ्यांतर – अभ्यंतर
रबिंद्र – रवींद्र
(रवि + इंद्र = रवींद्र)

प्रत्यय संबंधी

संस्कृत के जिन शब्दों के अंत में ‘अ’, इ, य, एय, अयन, आयन तथा ‘इक’ प्रत्यय लगते है उनके प्रारंभिक स्वर में इस प्रकार परिवर्तन होते है –
अ → आ, इ, ई, ए = ऐ, उ, ऊ, ओ = औ

सौन्दर्यता (अशुद्ध)
सुन्दर + या = सौन्दर्य (शुद्ध)
इतिहासिक (अशुद्ध)
इतिहास + इक = ऐतिहासिक (शुद्ध)
(अशुद्ध) = प्रमाणिक
(1)  प्रमाण + इक = प्रामाणिक (शुद्ध)
(2)  (अशुद्ध) = क्रोधित = क्रोध + इत = क्रुद्.ध) (शुद्ध)
= अभिशापित (अशुद्ध)
अभिशाप + इत
शुद्ध = अभिशप्त

लिंग संबंधी अशुद्धि→

जैसे – कमल से = कमलनी (अशुद्ध)
 कमल + इनी = कमलिनी (शुद्ध)
सरोजनी = (अशुद्ध)
सरोज + इनी = सरोजिनी
→   कवियित्री (अशुद्ध)
कवयित्री (शुद्ध)
विदुषि = (अशुद्ध)
विदुषी = (शुद्ध)

वचन संबंधी अशुद्धियाँ→

अशुद्ध – शुद्ध
दवाईयाँ – दवाइयाँ
विद्यार्थीगण – विद्यार्थिगण
प्राणीवृन्द – प्राणिवृन्द
खेतीहर – खेतिहर

वर्तनी के मानक रूप की अशुद्धियाँ→

अमानक – मानक
विधा – विद्या
संयुकत – संयुक्त
बुद्धि – बुद्.धि
चाहिये – चाहिए
ठण्डा – ठंडा
कीजिये – कीजिए
दाइत्व – दायित्व
सन्ध्या – संध्या
सम्पादक – संपादक
स्वर प्रयुक्त, मात्रा प्रयोग, स्वर, व्यंजन का लोप, वर्ण व्यक्तिक्रम, वर्ण परिवर्तन

CBSE Hindi Vyakaran Class 10 Notes

Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on email

Leave a Comment