NCERT Solutions for Class 10 Hindi Kritika Chapter 5

NCERT Solutions for Class 10 Hindi Kritika Chapter 5 – मैं क्यों लिखता हूं? (Mein Kyun Likhta hun)

प्रश्न अभ्यास

1. लेखक के अनुसार प्रत्यक्ष अनुभव की अपेक्षा अनुभूति उनके लेखन में कहीं अधिक मदद करती है, क्यों?

उत्तर:- लेखक के अनुसार प्रत्यक्ष अनुभव की अपेक्षा अनुभूति उनके लेखन में कहीं अधिक मदद करती है क्योंकि उनका मानना था कि अनुभूति अनुभव से गहरी चीज़ है। अनुभव केवल घटित होता है, लेकिन अनुभूति संवेदना और कल्पना के सहारे उस सत्य को आत्मसात कर लेती है, जो वास्तव में प्रतिकार के साथ घटित नहीं हुआ है।

2. लेखक ने अपने आपको हिरोशिमा के विस्फोट का भोक्ता कब और किस तरह महसूस किया?

उत्तर:- लेखक ने हिरोशिमा के बारे में बहुत पड़ा और सुना। उन्होंने वहां के अस्पतालों में जाकर आहत लोगों के कष्टों को भी अनुभव किया। एक दिन उन्होंने वहां सड़क पर घूमते हुए देखा कि एक जले हुए पत्थर पर लंबी उजली छाया है, जो शायद विस्फोट के वक्त उस जगह खड़े व्यक्ति की थी। विस्फोट से बिखरे हुए रेडियम-धर्मी पदार्थ की किरणें उसमें रुद्ध हो गई। जो आसपास से आगे बढ़ गई उन्होंने पत्थर को झुलसा दिया और जो उस व्यक्ति पर अटकी उन्होंने उसे भाफ बनाकर उड़ा दिया। इस प्रकार समूची ट्रेजेडी जैसे उस पत्थर पर लिखी गई और इस प्रकार लेखक हिरोशिमा के विस्फोट का भोक्ता बन गया।

3. मैं क्यों लिखता हूं? के आधार पर बताइए कि-

(क). लेखक की कौन-सी बातें लिखने के लिए प्रेरित करती हैं?
(ख). किसी रचनाकार के प्रेरणा स्रोत किसी दूसरे को कुछ भी रचने के लिए किस तरह उत्साहित कर सकते हैं?

उत्तर:-

(क). लेखक यह जानना चाहता है कि वह क्यों लिखता है और इस प्रश्न को जानने की इच्छा ही उसे लिखने के लिए प्रेरित करती है। लेखक लिखकर अपनी अंदरूनी विवशता को जानने का प्रयास करता है। निम्नलिखित दो चीजें उसके लिखने का मुख्य कारण है-

  • उसकी अंदरूनी विवशता
  • बाहरी दबाव




(ख). ख्याति मिल जाने के बाद कई रचनाकार बाहरी दबाव यानी संपादकों का आग्रह, प्रकाशकों के तकाज़े, आर्थिक आवश्यकता, सामाजिक दबाव, आदि के कारण भी लिखते हैं। लेकिन इसमें भी कहीं-न-कहीं भीतरी दबाव ही लिखने का मुख्य कारण होता है।

4. कुछ रचनाकारों के लिए आत्मानुभूति/स्वयं के अनुभव के साथ-साथ बाह्य दबाव भी महत्वपूर्ण होता है। यह बाह्य दबाव कौन-कौन से हो सकते हैं?

उत्तर:- कुछ रचनाकारों के लिए आत्मानुभूति/स्वयं के अनुभव के साथ-साथ बाह्य दबाव भी महत्वपूर्ण होता है। यह बाह्य दबाव हैं-

  • आर्थिक आवश्यकता
  • अपने नाम व ख्याति को बनाए रखने की जरूरत
  • सामाजिक दबाव
  • संपादकों का आग्रह
  • प्रशंसकों का दबाव, आदि।

NCERT Solutions for Class 10 Hindi Kritika Chapter 5

5. क्या बाह्य दबाव केवल लेखन से जुड़े रचनाकारों को ही प्रभावित करते हैं या अन्य क्षेत्रों से जुड़े कलाकारों को भी प्रभावित करते हैं, कैसे?

उत्तर:- ऐसा नहीं है कि बाह्य दबाव केवल लेखन से जुड़े रचनाकारों को ही प्रभावित करते हैं, बल्कि बाहरी दबाव सभी क्षेत्रों से जुड़े कलाकारों को प्रभावित करते हैं। उदाहरण के तौर पर- कई अभिनेता व फिल्म-निर्माताओं के पास पर्याप्त रूप में धन, मान-सम्मान व प्रतिष्ठा है, लेकिन अभी भी वे दूसरों के आग्रह पर काम करते हैं और इसी प्रकार कई ऐसे संगीतकार भी है, जो एक समय के बाद गीत गाना छोड़कर आराम करना चाहते हैं, लेकिन बाह्य दबाव के कारण वे काम करते रहते हैं।

6. हिरोशिमा पर लिखी कविता लेखक के अंतः व बाह्य दोनों दबाव का परिणाम है यह आप कैसे कह सकते हैं?

उत्तर:- हिरोशिमा पर लिखी कविता लेखक के अंतः व बाह्य दोनों दबाव का परिणाम है। ऐसा इसलिए कहा जा सकता है क्योंकि उन्होंने हिरोशिमा में अस्पताल में जाकर रेडियम पदार्थ से आहत लोगों के कष्टों को प्रत्यक्ष अनुभव किया। इससे उनके मन में उन लोगों के प्रति करुणा और संवेदना उत्पन्न हुई, जो उनकी कविता के लिए बाह्य दबाव साबित हुई। परंतु यह उनकी व्यक्तिगत अनुभूति नहीं थी। जब उन्होंने एक जले हुए पत्थर पर किसी व्यक्ति की उजली छाया देखी और वहां घटे पूरे घटनाक्रम को महसूस किया, तब वह अणु-विस्फोट उनकी प्रत्यक्ष अनुभूति में आ गया। इससे उनके भीतर व्याकुलता और विवशता उत्पन्न हुई, जो उनकी कविता के लिए भीतरी दबाव बनी।




7. हिरोशिमा की घटना विज्ञान का भयानक दुरुपयोग है। आपकी दृष्टि में विज्ञान का दुरुपयोग कहां-कहां और किस तरह हो रहा है?

उत्तर:- आज के आधुनिक युग में विज्ञान का भयानक टर्म दुरुपयोग किया जा रहा है विज्ञान का दुरुपयोग निम्नलिखित चीजों में हो रहा है-

  • तरह-तरह के हथियार, विस्फोटक व परमाणु-बम बनाने के लिए, जो किसी भी देश को नष्ट करने में सक्षम है
  • लिंग जांच करवाकर भ्रूण हत्या करने के लिए
  • ऐसे उपकरणों का निर्माण करने के लिए जो प्रकृति व वातावरण को नष्ट कर रहे हैं
  • इंटरनेट के माध्यम से लड़कियों की अश्लील तस्वीरें व फिल्में फैलाने के लिए
  • गलत खबरें फैलाकर लोगों को भड़काने और जातिवाद फैलाने के लिए
  • लोगों को झांसा देकर पलभर में उनसे पैसे ऐंठने में

8. एक संवेदनशील युवा नागरिक की हैसियत से विज्ञान का दुरुपयोग रोकने में आपकी क्या भूमिका है?

उत्तर:- एक अच्छे व संवेदनशील नागरिक की हैसियत से विज्ञान का दुरुपयोग रोकने के लिए हम निम्नलिखित तरीकों से अपना योगदान देना चाहेंगे-

  • लोगों को इंटरनेट, उस पर होने वाली धोखाधड़ी के बारे में जागरूकता फैलाकर
  • अश्लील फिल्मों व तस्वीरों का विरोध करके
  • लोगों को बेटियों का महत्व समझाकर, उन्हें लिंग जाच व भ्रूण हत्या न करने का संदेश देकर
  • विज्ञान द्वारा बनाए गए हथियारों का प्रयोग केवल जीवो की भलाई के लिए करके
  • हमारे महत्वपूर्ण प्राकृतिक संसाधनों का सीमित प्रयोग करके व प्रदूषण रोककर
  • विज्ञान द्वारा बनाई गई चीजों का सीमित व सही प्रयोग करके
Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on email

Leave a Comment