NCERT Solutions for Class 10 Hindi Kritika Chapter 1

NCERT Solutions for Class 10 Hindi Kritika Chapter 1 – माता का आंचल (Mata Ka Anchal) – शिवपूजन सहाय

प्रश्न-अभ्यास

1. प्रस्तुत पाठ के आधार पर यह कहा जा सकता है कि बच्चे का अपने पिता से अधिक जुड़ाव था, फिर भी विपदा के समय वह पिता के पास न जाकर मां की शरण लेता है। आपकी समझ से इसकी क्या वजह हो सकती है?

उत्तर:- ऐसा इसलिए होता है क्योंकि मां दिनभर घर के कामों में उलझी रहती है और उसके पास बच्चों के साथ खेलने-कूदने, उनसे बातें करने व उनका मन बहलाने के लिए समय नहीं होता; जबकि पिता बच्चों के साथ एक अच्छे मित्र की तरह रहते हैं और समय-समय पर उनके लिए मिठाइयां लाकर उन्हें खुश कर देते हैं। कई बाहर बच्चों की भलाई के लिए मां को उन्हें डांटना व मारना भी पड़ता है, इसलिए बच्चे पिता के साथ रहना अधिक पसंद करते हैं। लेकिन विपदा के समय उन्हें सिर्फ मां की ममता, स्नेह, लाड-प्यार और दुलार की आवश्यकता होती है क्योंकि केवल मां ही उनकी भावनाओं को समझती है।

2. आपके विचार से भोलानाथ अपने साथियों को देखकर से सिसकना क्यों भूल जाता है?

उत्तर:- बच्चे बहुत भोले और मासूम होते हैं। उनका ध्यान भटकाना और मन बहलाना बहुत आसान होता है। छोटी-छोटी चीजों से रोते हुए बच्चों का मन बहलाया जा सकता है। इसी प्रकार भोलानाथ भी अपने साथियों को देखकर उनके साथ विभिन्न प्रकार के खेल खेलने के लिए उत्सुक हो उठता है और उनके साथ खेलने-कूदने की खुशी में अपना रोना और सिसकना भूल जाता है।

3. आपने देखा होगा कि भोलानाथ और उसके साथी जब-तब खेलते-खाते समय किसी न किसी प्रकार की तुकबंदी करते हैं। आपको यदि अपने खेलों आदि से जुड़ी तुकबंदी याद हो तो लिखिए।

उत्तर:- बचपन में हम पकड़म-पकड़ाई खेलने से पहले एक-दूसरे का हाथ पकड़कर व गोला बनाकर घूमते हुए निम्नलिखित तुकबंदी गाया करते थे-

अक्कड़ बक्कड़ बम्बे बो,

अस्सी नब्बे पूरे सौ,

सौ में लगा धागा,

चोर निकल के भागा।




4. भोलानाथ और उसके साथियों के खेल और खेलने की सामग्री आपके खेल और खेलने की सामग्री से किस प्रकार भिन्न है?

उत्तर:- भोलानाथ और उसके साथी तरह-तरह के नाटक रचते थे। वे अपने नाटक के लिए घर के चबूतरे के छोर, छोटी चौकी, सरकंडे के खंभों, कागज, गीली मिट्टी, रेत, दियासलाई, टूटे हुए घड़े के टुकड़ों, कसोरे, आदि सामान का प्रयोग करते थे, जो आसानी से मिल जाता था। वे खेती करने, फसल काटने, खेत जोतने, भोज रखने, बारात का जुलूस निकालने जैसे खेल खेलते थे। आजकल बच्चों के खेल और खेलने की सामग्री बिल्कुल बदल चुकी है। आजकल बच्चों के पास खेलने के लिए तरह-तरह के वीडियो गेम, मोबाइल, कंप्यूटर, बैट-बॉल, आदि विभिन्न चीजें होती है। भोलानाथ और उसके साथियों द्वारा खेले जाने वाले खेल वास्तविक जीवन से जुड़े होते थे; वहीं आजकल बच्चों के खेल कल्पनाओं पर आधारित होते हैं और उनकी सामग्री पर बहुत अधिक पैसे खर्च होते हैं।

5. पाठ में आए ऐसे प्रसंगों का वर्णन कीजिए जो आपके दिल को छू गए हों?

उत्तर:- पाठ में आए निम्नलिखित प्रसंग हमारे दिल को छू गए-

  • जब बाबूजी रामायण का पाठ करते तब हम उनकी बगल में बैठे-बैठे आईने में अपना मुंह निहारा करते थे। जब वह हमारी ओर देखते तब हम कुछ लजाकर और मुस्कुराकर आइना नीचे रख देते थे। वह भी मुस्कुरा पड़ते थे।
  • कभी-कभी बाबू जी हमसे कुश्ती भी लड़ते। वह शिथिल होकर हमारे बल को बढ़ावा देते और हम उनको पछाड़ देते थे। यह उतान पड़ जाते और हम उनकी छाती पर चढ़ जाते थे। जब हम उनकी लंबी-लंबी मूछें उखाड़ने लगते तब वह हंसते-हंसते हमारे हाथों को मूंछों से छुड़ाकर उन्हें चूम लेते थे।
  • जब पंगत बैठ जाती थी तब बाबूजी भी धीरे-से आकर पांत के अंत में जीमने के लिए बैठ जाते थे। उनको बैठते देखते ही हम लोग हंसकर और घरौंदा बिगाड़कर भाग चलते थे। वह भी हंसते-हंसते लोट-पोट हो जाते और कहने लगते- फिर कब भोज होगा भोलानाथ?

NCERT Solutions for Class 10 Hindi Kritika Chapter 1

6. इस उपन्यास अंश में तीस के दशक की ग्राम्य संस्कृति का चित्रण है। आज की ग्रामीण संस्कृति में आपको किस तरह के परिवर्तन दिखाई देते हैं?

उत्तर:- प्रस्तुत पाठ के अनुसार तीस के दशक में गांव के लोग अत्यंत विनम्र, सीधे-साधे व भोले-भाले हुआ करते थे। उनकी ईश्वर में बहुत अधिक आस्था थी और वे प्रतिदिन घंटों तक ईश्वर की पूजा-अर्चना करते थे। उस समय में लोग मिल-जुलकर रहते थे, सादा व सरल जीवन जीते थे और अपने खेतों में कड़ी मेहनत करके जीवन-यापन करते थे। उनके दिलों में आत्मीयता, परोपकार और भाईचारे की भावना होती थी।

आज की ग्रामीण संस्कृति पहले के मुकाबले बहुत हद तक बदल चुकी है। आज लोगों के दिलों व घरों, दोनों ने बहुत दूरियां आ चुकी है। लोग युगल परिवारों को छोड़कर एकल परिवारों में रहना पसंद करते हैं। आजकल गांव में ऊंच-नीच, जात-पात, धर्म-संप्रदाय अमीरी-गरीबी के नाम पर भेदभाव बढ़ गया है। लोग एक-दूसरे के प्रति ईर्ष्या, द्वेष और मनमुटाव रखने लगे हैं। गांव की संस्कृति और परंपराएं अपनी पहचान खोती जा रही हैं।




7. पाठ पढ़ते-पढ़ते आपको भी अपने माता-पिता का लाड़-प्यार याद आ रहा होगा। अपनी इन भावनाओं को डायरी में अंकित कीजिए।

उत्तर:- छात्र अपने माता-पिता के लाड-प्यार की स्मृतियों का वर्णन स्वयं करे।

8. यहां माता-पिता का बच्चे के प्रति जो वात्सल्य व्यक्त हुआ है उसे अपने शब्दों में लिखिए।

उत्तर:- प्रस्तुत पाठ में भोलानाथ के माता-पिता का उसके प्रति असीम प्यार दिखाया गया है। भोलानाथ के पिता का उससे गहरा लगाव था। वे रोज सुबह उसे अपने साथ उठाते और दिनभर उसे अपने साथ-साथ रखते थे, उसे अपने कंधे पर बैठाकर झूलाते थे, उसके साथ कुश्ती लड़ते थे, उसे गले लगाकर चुंबन करते थे, उसके मजेदार खेलों में चुपके से शामिल हो जाते थे और उसका लाड़-दुलार करते थे। वहीं भोलानाथ की माता का स्नेह भी उसके प्रति असीम था। वे उसे विभिन्न चिड़ियों के नाम लेते हुए अपने हाथों से खाना खिलाती थी और उसकी हर जरूरत का ध्यान रखती थी। भोलानाथ का सांप के डर से अपनी मां की गोद में आकर छुप जाना, उसकी स्थिति देखकर मां का व्याकुल हो उठना और कांपते हुए रो पड़ना उनके स्नेहा और ममता को दर्शाता है।

9. माता का आंचल शीर्षक की उपयुक्तता बताते हुए कोई अन्य शीर्षक सुझाइए।

उत्तर:- प्रस्तुत पाठ का शीर्षक ‘माता का आंचल’ उपयुक्त है, क्योंकि इसमें लेखक ने

10. बच्चे माता-पिता के प्रति अपने प्रेम को कैसे अभिव्यक्त करते हैं?

उत्तर:- बच्चे माता-पिता के प्रति अपने प्रेम को विभिन्न प्रकार से व्यक्त करते हैं-

  • माता-पिता के गले लगकर व उनका चुंबन करके
  • उनकी गोद में बैठकर
  • उनसे तरह-तरह की चीजों के लिए ज़िद करके
  • उनसे ढेर सारे सवाल पूछकर
  • उनकी पीठ पर सवार होकर
  • उन्हें अपनी आधी-अधूरी कहानियां सुनाकर
  • उनके हाथों से खाना खाने की ज़िद करके
  • दिनभर उनके साथ-साथ घूमकर

11. इस पाठ में बच्चों की जो दुनिया रची गई है वह आपके बचपन की दुनिया से किस प्रकार भिन्न है?

उत्तर:- प्रस्तुत पाठ में बच्चों की जो दुनिया रची गई है उसमें गांव के साधारण बच्चों का जीवन दिखाया है, जिनके पास खेलने के लिए अलग से खरीदी हुई कोई सामग्री नहीं होती थी। वे गीली मिट्टी, रेत, चबूतरे, कागज, पेड़-पौधों, पत्तों, टूटे घड़ों के टुकड़ों, आदि से खेलते थे। यह दुनिया हमारे बचपन की दुनिया से बिल्कुल विपरीत है क्योंकि हमारे पास तरह-तरह के खेलों जैसे- क्रिकेट, बैडमिंटन, साइकिल, वीडियो गेम, आदि खेलने के लिए बाज़ार से खरीदी हुई सामग्री थी।

12. फणीश्वरनाथ रेणु और नागार्जुन की आंचलिक रचनाओं को पढ़िए।

उत्तर:– छात्र स्वयं फणीश्वरनाथ रेणु और नागार्जुन की आंचलिक रचनाओं को पढ़े।

Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on email

Leave a Comment