NCERT Solutions for Class 9 Hindi Kritika Chapter 4 – Mati Wali

NCERT Solutions for Class 9 Hindi Kritika Chapter 4 – माटी वाली (Mati Wali)

प्रश्न- अभ्यास

1. ‘शहरवासी सिर्फ़ माटी वाली को नहीं, उसके कंटर को भी अच्छी तरह पहचानते हैं।’ आपकी समझ से वे कौन से कारण रहे होंगे जिनके रहते ‘माटी वाली’ को सब पहचानते थे?

उत्तर:- सभी शहरवासी माटी वाली को इतना अच्छे से इसलिए जानते थे क्योंकि वह वहां के सभी घरों में बरसों से लाल माटी देती आई थी और वहां पर वह अकेली माटी वाली थी; उसका कोई प्रतिद्वंदी नहीं था और सभी शहरवासी उसके ग्राहक है। उसके बिना तो वहां के घरों में चूल्हा जलना भी मुश्किल हो जाता था। सभी लोग उसके बिना ढक्कन वाले कनस्तर से भी बहुत अच्छे से वाकिफ थे क्योंकि वह कनस्तर माटी वाली के साथ-साथ उनके जीवन का भी एक हिस्सा बन चुका था और वे उसे बहुत बार देख चुके थे।




2. माटी वाली के पास अपने अच्छे या बुरे के बारे में ज्यादा सोचने का समय क्यों नहीं था?

उत्तर:- माटीवाली बहुत ही गरीब व साधारण महिला थी। उसे अपनी रोजी-रोटी के लिए इतनी मेहनत करनी पड़ती थी कि उसके पास इतना सोच विचार करने के लिए समय ही नहीं था। उसके लिए भाग्य का कोई मतलब नहीं था क्योंकि उसके लिए तो उसकी आजीविका उसके स्वयं के परिश्रम पर निर्भर करती थी। वह तो बस इतना जानती थी कि अगर वह मेहनत करेगी तो उसे खाना मिलेगा वरना नहीं मिलेगा।

3. ‘भूख मीठी कि भोजन मीठा’ से क्या अभिप्राय है?

उत्तर:- इस कथन का तात्पर्य है कि स्वाद भोजन का नहीं भूख का होता है; इसीलिए जब भूख लगी हो तो रुखा सुखा भोजन भी स्वादिष्ट लगता है, वरना स्वादिष्ट भोजन भी बेस्वाद लगने लग जाता है। और निम्न वर्ग के गरीब लोग, जिनके पास दो वक्त की रोटी भी नहीं होती उन्हें तो रुखा-सुखा वह बासी खाना भी बेहद स्वादिष्ट लगता है।

4. ‘पुरखों की गाढ़ी कमाई से हासिल की गई चीज़ों को हराम के भाव पर बेचने का मेरा दिल गवाही नहीं देता।’ -मालकिन के इस कथन के आलोक में विरासत के बारे में अपने विचार व्यक्त कीजिए।

उत्तर:- हमारे पुरखों ने अपनी गाढ़ी कमाई से उन चीजों को हासिल किया होता है जिनकी हमारी नजरों में कोई कीमत नहीं होती। हमें उन चीजों के साथ जुड़े हमारे पूर्वजों के जज्बातों को समझना चाहिए, क्योंकि उन्होंने अपनी कई इच्छाओं व आनंद को त्यागकर, उस अभाव के समय में पाई-पाई जोड़कर उन्हें खरीदा था। इसलिए हमें उनकी इन भावनाओं का आदर करते हुए इन चीजों की कीमत समझनी चाहिए। विरासत में मिली चीजों का मूल्य उनकी कीमत से तय नहीं किया जा सकता, बल्कि उनसे जुड़ी भावनाओं व जज्बातों से तय किया जाता है।

5. माटी वाली का रोटियों का इस तरह हिसाब लगाना उसकी किस मजबूरी को प्रकट करता है?

उत्तर:- माटीवाली का इस तरह रोटियों का हिसाब लगाना उसकी गरीबी को दर्शाता है। इससे हमें पता चलता है कि वह आर्थिक रूप से कितनी कमजोर थी और उसके लिए अपने व अपने पति के लिए दो वक्त की रोटी कमा पाना भी कितना मुश्किल था।




6. आज़ माटी वाली बुड्ढे को कोरी रोटीयां नहीं देगी -इस कथन के आधार पर माटी वाली के हृदय के भाव को अपने शब्दों में लिखिए।

उत्तर:- इस कथन से हमें माटी वाली के हृदय में अपने पति के लिए बसे प्रेम, आदर, सम्मान व समर्पण के भाव का पता चलता है। उसे अपने बूढ़े और बीमार पति के स्वास्थ्य की फिक्र थी और वह उसे खुश देखना चाहती थी इसलिए वह उसे रुखा-सुखा न खिलाकर उसके लिए अपनी आमदनी से प्याज खरीदती है। वह अपना पत्नी-धर्म पूरी निष्ठा से निभाती है।

7. ‘गरीब आदमी का शमशान नहीं उजड़ना चाहिए।’ इस कथन का आशय स्पष्ट कीजिए।

उत्तर:- बांध बनने के कारण माटी वाली का घर उजड़ चुका था क्योंकि उससे उसका रोजगार छिन गया था और बांध की दो सुरंगों को बंद कर दिए जाने की वजह से श्मशान घाट भी डूब चुका था। माटी वाली का पति मर गया था जिसकी वजह से वह अत्यंत दुखी और आहत थी और उसे श्मशान व अपने घर में कोई फर्क नहीं दिखता; क्योंकि उस वक्त उसे दोनों की ही जरूरत थी और दोनों ही उजड़ चुके थे। इसी कारण वह उपरोक्त कथन कहती है।

8. ‘विस्थापन की समस्या’ पर एक अनुच्छेद लिखिए।

उत्तर:- विस्थापन का अर्थ होता है- एक जगह से दूसरी जगह जाकर बसना। इसके कई कारण हो सकते हैं, जैसे- किसी आपदा की वजह से जहां लोग रह रहे हैं वहां उनकी आजीविका का खत्म हो जाना, बलपूर्वक लोगों को उनकी जगह से हटाए जाना, रोजगार के लिए दूसरी जगह जाना, आदि। अमीरों के लिए तो यह कोई समस्या नहीं है, लेकिन निम्न वर्ग के लोगों के लिए यह एक बहुत ही बड़ी समस्या है और उनके पास इससे उबर पाने के लिए कोई साधन नहीं होता। सरकार इसके लिए उनकी मदद भी करती है, लेकिन वह पर्याप्त नहीं होता क्योंकि उनको उस नई जगह पर सबसे ज्यादा जरूरत होती है रोजगार की, जोकि सरकार इतने सारे लोगों को देने में असमर्थ होती है। विस्थापन गरीबों के लिए बहुत ही बड़ी समस्या है क्योंकि इससे उनके विकास का स्तर फिर से उसी जगह पहुंच जाता है, जहां से उन्होंने शुरुआत की थी।

NCERT Solutions For Class 9 – Click here

Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on email

1 thought on “NCERT Solutions for Class 9 Hindi Kritika Chapter 4 – Mati Wali”

Leave a Comment