काल – काल के भेद

काल – काल के भेद (Tense in Hindi) – भूतकाल – भूतकाल के भेद, वर्तमान काल – वर्तमान काल के भेद, भविष्यत काल – भविष्यत काल के भेद

काल (Tense in hindi) का अर्थ है –“समय

जैसे

  1. मोहन विद्यालय जाता था |
  2. सौम्य पढ़ रही है |
  3.  पिताजी दिल्ली जाएँगे |




काल (Tense in hindi) – क्रिया के जिस रूप से उसके होने के समय का पता चलता है, उसे काल कहते हैं |

काल के भेद ( Kaal ke Bhed )

(1)   भूतकाल   ( Bhoot kaal )
(2)   वर्तमान काल  ( Vartaman kaal )
(3)   भविष्यत काल  ( Bhavishyat kaal )

भूतकाल ( Bhoot Kaal )

क्रिया के जिस रूप से कार्य के बीत चुके समय में पूरा होने का पता चलता है, उसे भूतकाल कहते है |

जैसे →

  1. लड़के खेल रहे थे |
  2. माता जी ने पूजा की थी |
  3. दीदी खाना बना चुकी थी |
  4. वर्षा रुक गई थी |

भूतकाल के भेद

  1. सामान्य भूत
  2. आसन्न भूत
  3. पूर्ण भूत
  4. अपूर्ण भूत
  5. संदिग्ध भूत
  6. हेतु हेतुमद भूत

सामान्य भूतकाल

जैसे →

  1. राधा ने गीत सुनाए
  2. रेखा ने नृत्य किया

क्रिया के जिस रूप से कार्य के सामान्य रूप में भूत काल में होने का पता चलता है, उसे सामान्य भूत काल कहते हैं |

आसन्न भूतकाल

जैसे →

  1. छात्र कक्षा से निकले हैं |
  2. नीलम साइकिल से आई है |

क्रिया के जिस रूप से उसके कुछ ही समय पहले पूरा होने का पता चलता है, उसे आसन्न भूत काल कहते हैं |

पूर्ण भूतकाल

जैसे →

  1. भावना पत्र लिख चुकी थी |
  2. माँ पूजा कर चुकी थी |

क्रिया के जिस रूप से उसके बहुत पहले पूर्ण हो जाने का पता चलता है, उसे पूर्ण भूतकाल कहते हैं |

अपूर्ण भूतकाल

जैसे →

  1. लड़कियाँ नृत्य कर रही थी |
  2. अध्यापक विद्यालय जा रहे थे |

क्रिया के जिस रूप से उसके बीत चुके समय में आरंभ होकर भी पूरा न होने का पता चलता है, उसे अपूर्ण भूत काल कहते हैं |

संदिग्ध भूतकाल

क्रिया के जिस रूप से उसके भूतकाल में पूरा होने में संदेह होता है, उसे संदिग्ध भूतकाल कहते हैं |

जैसे →

  1. मोहन ने पुस्तक पढ़ ली होगी |
  2. पिताजी होटल में पहुँच चुके होंगे |
हेतु हेतुमद भूतकाल

जैसे →

  1. समय मिलता तो राम अवश्य आता |
  2. यदि वर्षा हो जाती तो अकाल न पड़ता |

क्रिया का वह रूप जिससे पता चलता है कि कार्य भूतकाल में होने वाला था परंतु किसी कारण से नहीं हो सका, उसे हेतु हेतुमद भूतकाल कहते हैं |




वर्तमान काल ( Vartaman Kaal )

जैसे –

  1. माँ कपड़े धो रही है |
  2. ममता सफाई कर रही है |
  3. पिताजी चाय पी रहे हैं |

→   क्रिया के जिस रूप से उसके वर्तमान में होने का बोध हो, उसे वर्तमान काल कहते हैं |

→   वर्तमान काल की क्रिया के अंत में प्राय: है, हैं, हो, हूँ आते हैं |

वर्तमान काल के भेद

(1)  सामान्य वर्तमान
(2)  अपूर्ण वर्तमान
(3)  संदिग्ध वर्तमान

सामान्य वर्तमान

जैसे →

  1. मोहन गेंद से खेलता है |
  2. डाकिया पत्र पहुँचता है |
  3. महेश कार ठीक करता है |

→   जो क्रिया वर्तमान में सामान्य रूप से होती है, उसे सामान्य वर्तमान काल कहते हैं |

→   इसमें धातु के अंत में ता है, ती है, ते हैं, आदि आते है |

अपूर्ण वर्तमान

जैसे →

  1. पुजारी पूजा कर रहा है |
  2. माँ हलवा बना रही है |

क्रिया के जिस रूप से यह पता चले कि कार्य वर्तमान काल में शुरू हो गया है और अभी जारी है, उसे अपूर्ण वर्तमान काल कहते हैं |

संदिग्ध वर्तमान

जैसे →

  1. ममता झाडू लगा रही होगी |
  2. पिताजी आ रहे होगें |

क्रिया के जिस रूप से उसके वर्तमान समय में होने में संदेह होता है, उसे संदिग्ध वर्तमान काल कहते हैं |




भविष्यत काल ( Bhavishyat Kaal )

हम ताजमहल देखने जाएँगे |
सीता प्रतियोगिता में भाग लेगी |

→   क्रिया के जिस रूप से कार्य के आने वाले समय में होने का पता चलता है, उसे भविष्यत काल कहते हैं |

भविष्यत काल के भेद

  1. सामान्य भविष्यत्
  2. संभाव्य भविष्यत्

सामान्य भविष्यत् काल

जैसे →

  1. सीमा पढ़ाई करेगी |
  2. अनन्या खाना बनाएगी |

क्रिया के जिस रूप से उसके भविष्य में सामान्य रूप में होने का बोध हो, उसे सामान्य भविष्यत् काल कहते है |

संभाव्य भविष्यत् काल

जैसे →

  1. रेखा नृत्य करने के लिए शायद मान जाए |
  2. शायद आज दीदी आएँ |

क्रिया के जिस रूप से उसके भविष्य में होने की संभावना का पता चलता है, उसे संभाव्य भविष्यत काल कहते हैं |

CBSE Hindi Vyakaran Class 8 Notes

Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on email

4 thoughts on “काल – काल के भेद”

Leave a Comment